जैविक खेती के लाभ | Benfits Of Organic Farming

जैविक खेती कैसे करें? जैविक खेती के लाभ | Best Farming |

दोस्तों आज हम जानेंगे जैविक खेती (Organic Farming )  के बारें में. हमारे देश में बहुत से किसान जैविक खेती कर रहें हैं और उस से बहुत ही अच्छा मुनाफा कमा रहे है| लेकिन हमारे बहुत से किसान भाई अभी भी जैविक खेती के बारें में नहीं जानते हैं |
जैविक खेती का शुरूवात सबसे पहले 2001 - 2002  हुई थी ,पहले साल में ही 300 से अधिक गावं ने जैविक खेती की थी |

जैविक खेती क्या है ?


>>जैविक खेती एक प्रकार की ऐसी खेती है जिस से हम काम लागत में बहुत ही अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं और ये खेत बहुत ही अच्छी होती हैं, और इसमें नुकसान का अवसर बहुत कम होता है |
जैविक खेती से हमारे मानव शरीर को बहुत फायदा होता है , जैसे जैविक खेती में हम रसायनिक खाद का प्रयोग नहीं करतें हैं ,जिससे हमारा शरीर स्वस्थ रहता है |
कीटनाशक और खाद  के प्रयोग से हमारा जो भी खेती है वो एक प्रकार का जहरीला प्रभाव भी छोड़ता है इसलिए जैविक खेती हमारे मानव शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक माना जाता है |




*जैविक खेती कैसे करें ?


जैविक खेती करने के लिए आपको सबसे पहले अपने मिटटी की जांच करान चाहिए| आप मिटटी का सैंपल लेकर अपने नजदीकी कृषि विभाग में जाकर जांच करा लीजिए |
जैविक खेती में हम जो रसायनिक खाद होता है उसका प्रयोग नहीं करेंगे और न ही कोई कीटनाशक दवा का प्रयोग करेंगे | इस खेरी में हम पूरी तरह से जो ऑर्गैनिक (organic ) खाद का प्रयोग करेंगे|आर्गेनिक खाद जैसे - गोबर ,गाय का मूत्र, राख,केचुए का खाद आदि |
हम कचड़े का उपयोग करके बहुत ही अच्छा खाद बना सकते हैं,और कुछ खाद जैसे -

नीम के पते  का घोल,मठा,लकड़ी की राख ,फसलों का अवशेष ,गहन जीवा मृत ये सब भी जैविक खेती का एक स्रोत है|

किसानो के अनुभव से जैविक खेती के लाभ..


* जैविक खेती से जो हमारा भूमि होता है वो उसकी उपजाऊँ सकती में बृद्धि होती है | क्यूंकि जैविक खाद, रासायनिक खाद से अधिक प्रभावशाली होता है|

* जैविक खेती करने से हमारे फसल की उत्पादन संख्या में भी बहुत बृद्धि अथवा लाभ होता है |  रसायनिक खाद पर उपयोग न करने के कारण जो हमारी लागत  बहुत कम जाती है |

* इस समय बाजार में जो जैविक उत्पाद है उसकी मांग ज्यादा हो रही है जिस से जो भी किसान जैवक खेती कर रहें हैं उनको अधिक मुनाफा मिल रहा है जिस से उनके आय में भी बृद्धि हो रही है |

* जैविक खाद उपयोग करने से जो हामरी मिटटी होती है उसमे बहुत सुधार होती है जिससे हमें और कोई नया फसल लगाने में भी लाभ होता है | इससे हमारे जो भूमि होती है वो कम पानी का उपयोग करती है और भूमि से पानी का भाप बहुत कम निकलता है |

* जैविक खेती से जो भूमि का जल स्तर भी बढ़ जाता है , इससे हमारे होने वाले प्रदूषण में कमी आती है. जंहा पर वर्षा होती हैं वंहा पर ये खेती बहुत ही लाभदायक माना जाता है | जैविक खेती - रासायनिक खेती से बहुत ही अच्छा होता है |

जैविक खाद को  घर पर तैयार करने की एक विधि---


यंहा पर मैं आपको जैविक खाद बनाने का एक विधि देता हूँ जो कृषि विभाग के डाक्टरो द्वारा सबसे बढ़िया खाद में आती है -

>> सबसे पहले आपको 500 लीटर का एक ड्रम या बाल्टी लेना है ,उसमें हम करीब एक चौथाई तक पानी डालेंगे| उसके बाद हम उसमे गाय का गोबर मिलाकर अच्छी तरीके से मिलाएंगे|
उसके बाद हम कम से कम 5  किलो गुड़ और 5  किलो बेसन का एक घोल बनाकर उसमे मिला देंगी और उसको भी अच्छी तरीके से  मिला देंगे|

>> मिलाने के हम गाय का मूत्र और राख लकड़ी के राख को भी उसमे डालकर अच्छी तरीके से मिला देंगे, इस घोल को अच्छी तरीके से तैयार करने के बाद हम इसके बंद करके करीब 10 से 15 दिन तक रख देने उसके बाद हमारा ये खाद बनकर तैयार हो जाएगा|

विशेष लाभ----


जंहा पर जो हमारे रासायनिक खेती का फसल है जैसे-गेंहू वो बाजार में 1700 से 1800 रूपए प्रति क्विंटल बिकता है वंही पर जैविक खेती का गेंहू 7 से 8 हजार रूपए तक बिक जाता है |
अगर आपको जैविक खेती करने में और कोई भी सुझाव लेना है  या कोई  दिक्कत है तो आपको अपने नजदीकी  कृषि विभाग से सम्पर्क करिये और यदि आपको कोई  भी सुझाव या सवाल है तो आप कमेंट करिये मैं आपको जल्द से जल्द जवाब दूंगा |

धन्यवाद !

टिप्पणी पोस्ट करें

8 टिप्पणियां